Board index BK Section (BKs & New BK students only please) BK Reading Materials, Newsletters, Magazines, Classes 07 10 2013 GYDS SHIVSANDESH OMSHANTI

07 10 2013 GYDS SHIVSANDESH OMSHANTI


Post Mon Oct 07, 2013 12:04 am

Posts: 409
Link with BKs: BK
07 10 2013 GYDS SHIVSANDESH OMSHANTI

यह बेहद की कहानी है .. राम अर्थात बेहद का बाप है सुख देने वाला .. शिवबाबा की मत है श्रीमत .. श्रीमत से २१ जन्म सुख पाते हो ... बेहद का बाप आकर बेहद का सुख देते है ... मैं हूँ ही सुख दाता .. भक्ति मार्ग में भी देने वाला मैं हूँ .. बाप कहते है – मैं आया हूँ तुम्हारा जो गवाया हुआ राज्य है वह देने .. तुम यहाँ बैठ हो श्रीमत पर अपना स्वराज्य लेने के पुरुषार्थ में .. ज्ञान मार्ग की आमदनी से भंडार भरपुर हो जाता है ... पवित्रता की महेनत है .. मानसरोवर अर्थात निराकार परमपिता परमात्मा ज्ञान सागर मनुष्य के तन में आकर यह ज्ञान सुनाते है .. ब्रह्मा द्वरा परमपिता परमात्मा सभी वेदों शास्त्रों ग्रंथों का सार बैठ बतलाते है .. नम्बरवन है श्रीमतभगवत गीता ... यह है युद्धस्थल .. तुम हो बच्चे, जो ब्राहमण बने हो .. ब्रह्मा मुखवंशावली है .. ब्रह्मा द्वरा यज्ञ रचा गया .. रूद्र ज्ञान राजस्व अश्वमेघ यज्ञ .. सतयुग में भारत स्वर्ग था .. अभी बाप तुम्हे बेहद का राज्य देते है .. बाप कहते है – बच्चे थक मत जाना, श्रीमत पर चलते रहना .. श्रीमत को कभी भूलना नही ... इसमें बड़ी सावधानी चाहिए .. जो कुछ करो, पूछो .. गृहस्थ में रह पुरुषार्थ करना है .. सर्विस करनी है ... खुद पवित्र बन अपने मित्र सम्बधियों आदि को भी लायक बनाओ, मीठी मीठी बातें सुनाओं ..

सम्पूर्ण पवित्रता वाला ब्रह्माचारी ... स्वीट साइलेंस वाला अंतरमुखी सुखस्वरूप आत्मा .. त्रिकालदर्शी का सेन्स और रूहानियत का इसेंस वाला सर्विससेबुल आत्मा .. पवित्र पावन सुख शांति का देवता ..



ज्ञान :- निराकार परमपिता परमात्मा ज्ञान सागर, गोड फादर, सुख दाता, बेहद का बाप से बेहद की कहानी सुन बेहद सुख का बेहद का वर्सा लेने वाला बाप का बच्चा .. ब्रह्मा मुखवंशावली ब्राहमण ... अच्छा अथक अलर्ट स्वराज्य का पुरुषार्थी आत्मा ... योग :- बेहद बाप की याद वाली अशरीरी आत्मा .. धारणा :- श्रीमत पर सावधान अथक अभुल बन चलने वाला .. कर्म करने से पहेले पुछने वाला .. अटल अखंड शांतिमय राज्य सच्चा सतयुग स्वर्ग का सम्पूर्ण पवित्र पावन सुख का देवता .. सेवा :- सर्व को लायक बनाने वाला .. ज्ञान की मीठी बातें सुनाने वाला .. पवित्र बनने और बनाने की सर्विस वाला बाप का बच्चा .. ज्वालापॉइंट :- पवित्र पावन सुख की ज्वाला .. शिवसन्देश :- सर्व को बेहद की कहानी सुनाकर बेहद वर्से के अधिकारी बनाना है ... सबंध :- परमपिता परमात्मा मातपिता बापदादा बन्धुसखा साथीस्वामी मालिकखुदादोस्त बालकवारिस बापटीचरसतगुरु को याद प्यार नमस्ते और गुड मोर्निग गुड नाईट बाबा ... सर्व सबंध से सर्व स्मुर्तीस्वरूप ... ज्ञान योग धारणा सेवा श्रीमत बैलंस वाला समान सम्पन सम्पूर्ण फरिश्ता ... सुक्रिया बाबा सुक्रिया .. आप का अक्षोनी टाइम सुक्रिया ... मेरे बाबा प्यारे बाबा मीठे बाबा ... मैं आत्मा और मेरा बाबा ही संसार है ... दुसरा ना कोई .. मैं भी बिंदी .. बाप भी बिंदी .. ड्रामा भी बिंदी ... आत्मास्वरूप देवतास्वरूप पूज्यस्वरूप ब्राहमणस्वरूप फरिश्तास्वरूप सिद्धिस्वरूप प्राप्तिस्वरूप स्मुर्तीस्वरूप

Return to BK Reading Materials, Newsletters, Magazines, Classes