Board index BK Section (BKs & New BK students only please) Recent Homework and Self-Efforts Chart in hindi from murli of 14/12/2014

Chart in hindi from murli of 14/12/2014


Post Sun Dec 21, 2014 2:05 pm
VisionOfSelf User avatar
Site Admin

Posts: 689
Link with BKs: BK
http://bkdrluhar.com/00-Murli/30-Murli% ... iChart.htm

❍ 14 / 12 / 14 की मुरली से चार्ट ❍

⇛ TOTAL MARKS:- 100 ⇚

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

✺ शिवभगवानुवाच :-

➳ _ ➳ रोज रात को सोने से पहले बापदादा को पोतामेल सच्ची दिल का दे दिया तो धरमराजपुरी में जाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी ।

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━


∫∫ 1 ∫∫ स्वमान का अभ्यास (Marks:-10)

➢➢ मैं कर्मबंधन मुक्त आत्मा हूँ ।

───────────────────────────


∫∫ 2 ∫∫ गुण / धारणा पर अटेंशन (Marks:-10)

➢➢ एक बाप को अपना संसार बनाना

───────────────────────────


∫∫ 3 ∫∫ बाबा से संबंध का अनुभव(Marks:-10)

➢➢ बाप

───────────────────────────


∫∫ 4 ∫∫ होमवर्क (Marks:- 7*5=35)

‖✓‖ अखूट खजानों से भरपूर स्वयं को °तृप्त आत्मा° अनुभव किया ?

‖✓‖ °सर्व संबंधो° से बाप से मिलन मनाया ?

‖✓‖ "स्वयं °भगवान्° हमको परमधाम से °पढाने आते हैं°" - इस स्मृति से ख़ुशी का अनुभव किया ?

‖✓‖ "°तुम्ही से खाऊं... तुम्ही से बैठू°" का वायदा निभाया ?

‖✓‖ सारा बोझ बाप को दे °हलके° रहे ?

‖✓‖ सोने से पहले बापदादा से सारे दिन के °समाचार की लेन-देन° की और अगले दिन के श्रेष्ठ संकल्प का प्रेरणा ली ?

‖✓‖ बाप के सहयोगी °विश्व कल्याणकारी° समझ हर कार्य किया ?

───────────────────────────


✺ अव्यक्त बापदादा (30/11/2014) :-

➳ _ ➳ बाप बच्चों को देख रहे हैं और बच्चे बाप को देख रहे हैं । सभी सदा खुश रहते हैं? कोई कभी-कभी खुश रहते हैं और कोई सदा खुश रहते हैं, तो सदा खुश रहने वाले बाप के आखों के सामने घूमते रहते हैं

∫∫ 5 ∫∫ विशेष अभ्यास (Marks:-15)

➢➢ कभी-कभी खुश रहने की बजाये सदा खुश रहे ?

───────────────────────────


∫∫ 6 ∫∫ ज्ञान मंथन (वरदान) (Marks:-10)

➢➢ एक बाप को अपना संसार बनाने से कर्मबंधनो से कैसे मुक्त हो सकते है ?

❉ एक बाप को अपना संसार बना लेने से कर्मबंधन सेवा के बंधन में परिवर्तित हो जाता है ।

❉ एक बाप को अपना संसार बना लेने से हम बेहद का वैराग्य धारण कर पाते हैं और हमें देह के संबंधो में आसक्ति नहीं रहती ।

❉ एक बाप को अपना संसार बना लेने से हम हर कर्म करते हुए न्यारे और प्यारेपन का अनुभव होता है ।

❉ एक बाप को अपना संसार बना लेने से देहि अभिमानी हो कर्म करेंगे जिससे विकर्मो का खाता कटता जायेगा और हम बंधनमुक्त होते जायेंगे।

❉ बाप को संसार बनाने से हम कर्म विकर्म की ग्हुय गति को जान लेते है,उन्हें जानने से कोई ऐसा कर्म नहीं होता जो बंधन बने।

❉ बाप को संसार बनाने से हम पवित्र बनते जाते, जिससे कर्मबंधनो से छुटते जाते है।

❉ बाप की श्रीमत प्रमाण कार्य करने से पुण्य का खाता जमा होता है और उलटे कर्म करने से बच जाते है।

❉ बाप आये ही है बन्धनों से छुड़ा मुक्ति जीवनमूक्ति का वर्सा देने,उन्हें अपना संसार बनाने से हिसाब-किताब ख़ुशी ख़ुशी चुक्त होता जायेगा।

───────────────────────────


∫∫ 7 ∫∫ ज्ञान मंथन (स्लोगन) (Marks:-10)

➢➢ महान आत्मा बनने के लिए दृष्टि और वृति का बेहद होना क्यों आवश्यक है?

❉ मन की वृतियों से बेहद का होने से मैं पण और मेरा पण समाप्त कर आत्मा महान बन जाती है।

❉ दृष्टि बेहद की होने से सर्व के प्रति समान भाव रखना महान आत्मा का गुण है।

❉ वृति से हद के संस्कारों को ख़त्म कर बेहद के संस्कार लाना ही महान आत्मा बनना है।

❉ देह और देह की दुनिया से परे बेहद की वृति रखने ही महानता है।

❉ मन के संकल्पों में सर्व को एक समान सम्मान देने वाले ही महान आत्मा का सम्मान पाते है।

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

⊙_⊙ आप सभी बाबा के प्यारे प्यारे बच्चों से अनुरोध है की रात्रि में सोने से पहले बाबा को आज की मुरली से मिले होमवर्क के हर पॉइंट के मार्क्स ज़रूर दें ।



♔ ॐ शांति ♔

Return to Recent Homework and Self-Efforts